तिहाड़ जेल में फांसी पर लटकाने से पहले क्या होता है देख लीजिए, रोंगटे खड़े हो जाएंगे

आप जानते ही होंगे 20 मार्च निर्भया के दोषियों  फांसी दी गयी थी पर आपको पता है तिहाड़ जेल में फांसी की सजा से पहले क्या थी निर्भया के दोषियों की आखिरी इच्छा? क्या थी अगर आप जानना  चाहते है निर्भया के दोषियों को शुक्रवार तड़के तिहाड़ जेल में फांसी दिए जाने के बाद लंबे समय से पीड़िता को इंसाफ मिलने की राह देख रहे लोगों ने राहत की सांस ली। दिसंबर 2012 में एक मेडिकल छात्रा के साथ निर्मम तरीके से गैंगरेप और हत्या के दोषियों को आखिरकार उनके किए की सजा मिल गई, जिससे समाज में जघन्य अपराध की सोच
 रखने वालों के मन में भी डर पैदा होगा।

 तिहाड़ जेल में फांसी पर लटकाने से पहले क्या होता है देख लीजिए, रोंगटे खड़े हो जाएंगे



फांसी से पहले जेल में क्या हुआ
शुक्रवार तड़के चारों को इनके सेल से जगाया गया हालांकि, चारों में से कोई भी सोया नहीं था। इसके बाद सुबह की जरूरी प्रक्रियाएं पूरी करने के बाद इनसे नहाने को कहा गया। इसके बाद इनके लिए चाय मंगाई गई लेकिन किसी ने चाय नहीं पी। इसके बाद उनसे आखिरी इच्छा पूछी गई और फिर सेल से बाहर लाने से पहले चारों को काला कुर्ता-पजामा पहनाया गया तथा हाथ पीछे की ओर बांध भी दिए गए थे। इसके बाद चारों को पवन जल्लाद और तिहाड़ जेल के एक कर्मी ने लीवर खींचकर फांसी की सजा दी।

फांसी के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि आज वह बहुत खुशी महसूस कर रही हैं क्योंकि उनकी बेटी को आखिरकार इंसाफ मिल गया। उन्होंने कहा कि निर्भया की मां होने के नाते आज वह गर्व महसूस कर रही है। सात साल पहले जो घटना हुई उससे लोग और देश शर्मसार हुआ था लेकिन आज न्याय मिला है। निर्भया के पिता ने कहा कि देर से ही सही उनको न्याय मिला। उन्होंने कहा कि उन्होंने एक पिता होने का कर्त्तव्य निभाया है। इंसाफ के लिए दर दर की ठोकरें खाई है लेकिन आखिरकार इंसाफ मिला।

तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल ने बताया कि सभी चारों दोषियों को ठीक 5:30 बजे फांसी पर लटकाया गया। तिहार प्रशासन के अनुसार रातभर संशय बने रहने के बाद आखिरकार तय समय पर फांसी दी गई। फांसी के लिए दो तख्ते थे और एक तख्त पर दो लोगों को खड़ा किया गया था। उन्होंने कहा कि फांसी के लिए मेरठ से पवन जल्लाद को बुलाया गया था।

video dekhe 

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to " तिहाड़ जेल में फांसी पर लटकाने से पहले क्या होता है देख लीजिए, रोंगटे खड़े हो जाएंगे"

Post a comment